सामाजिक, आर्थिक एवं राजनीतिक जीवन – I. (3. शहरी जीवन यापन के स्वरूप / Shahri jivan yapan ke swaroop)

3. शहरी जीवन यापन के स्वरूप

Shahri jivan yapan ke swaroop

यहाँ वर्ग-6 के पुस्तक “सामाजिक, आर्थिक एवं राजनीतिक जीवन-I” के अध्याय-3. “शहरी जीवन यापन के स्वरूप(Shahri jivan yapan ke swaroop)” से कुछ महत्वपूर्ण अति लघु उत्तरीय प्रश्न-उत्तर लिया गया है जो कि कक्षा-6 तथा अन्य प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए उपयोगी होंगे।

1. भारत में लगभग कितने शहर हैं?
उत्तर- 5000 से ज्यादा।

2. ‘पटरी वाला व्यापारी’ का कार्य है?
उत्तर- सड़कों के किनारे फुटपाथ पर सामान बेचना, अस्थाई सड़कों के किनारे दुकान लगाना।

3. शहरों में ‘रैन बसेरा’ क्यों होते हैं?
उत्तर- बेसहारा लोगों के रहने के लिए, सरकार द्वारा निशुल्क गरीबों के लिए बनाया गया

1. विविधता के समझ2. ग्रामीण जीवन यापन के स्वरूप
3. शहरी जीवन यापन के स्वरूप4. लेन-देन का बदलाव स्वरूप
5. हमारी सरकार6. स्थानीय सरकार
7. सड़क सुरक्षा उपाय
Share this:

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top