गोधूलि – II(काव्य खण्ड). (11. लौट कर आऊंगा फिर / Laut kar aaunga fir)

11. लौट कर आऊंगा फिर

Laut kar aaunga fir

यहाँ वर्ग-10 के पुस्तक “गोधूलि(भाग-2) काव्य खण्ड” के अध्याय-11. “लौट कर आऊंगा फिर(Laut kar aaunga fir)” से कुछ महत्वपूर्ण अति लघु उत्तरीय प्रश्न-उत्तर लिया गया है जो कि कक्षा-10 तथा अन्य प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए उपयोगी होंगे।

1. “लौट कर आऊंगा फिर” कविता में कहां फिर से लौट कर आने की बात करता है?
उत्तर- बंगाल।

2. कवि जीवनानंद दास का जन्म कब हुआ था?
उत्तर- 1899 ईस्वी में।

3. कवि जीवनानंद दास किस भाषा के कवि हैं?
उत्तर- बांग्ला।

4. कवि जीवनानंद दास को किस काव्य संकलन श्रेष्ठ काव्य ग्रंथ का पुरस्कार मिला था?
उत्तर- वनलता सेन।

5. रविंद्र नाथ के बाद बांग्ला साहित्य में आधुनिक काव्य आंदोलन का नेतृत्व करने वाले कवि थे?
उत्तर- जीवनानंद दास।

6. “लौट कर आऊंगा फिर” कविता के कवि कौन हैं?
उत्तर- जीवनानंद दास।

7. “लौट कर आऊंगा फिर” शीर्षक कविता में ‘साटी-तारार-तिमिर’ किसकी कृति नहीं है?
उत्तर- जीवनानंद दास।

8. ‘खेत है जहां धान के, बहती नदी के किनारे फिर आऊंगा लौटकर एक दिन बंगाल में’ उपर्युक्त पद्यांश के कवि कौन हैं?
उत्तर- जीवनानंद दास।

9. कभी अगले जीवन में क्या बनने की अभिलाषा व्यक्त करते हैं?
उत्तर- हंस,कौवा, अबावील।

10. ‘वनलता प्रेम’ किस कवि की रचना है?
उत्तर- जीवनानंद दास।

11. इनमें से कौन-कौन सी रचना जीवनानंद दास की है?
उत्तर- बेला-अबेला-कालबेला, रूपसी बांग्ला, वनलता सेन।

12. “लौट कर आऊंगा फिर” कविता में कवि का कौन सा भाव प्रकट होता है?
उत्तर- मातृभूमि-प्रेम।

13. कवि कपास के पेड़ पर किस पक्षी की बोली सुनने की बात करते है?
उत्तर- उल्लू।

14. ‘गंध जहां होगी ही भरी, घास की’ किस कवि की पंक्ति है?
उत्तर- जीवनानंद दास।

15. जीवनानंद दास बांग्ला के किस काल के प्रमुख कवि हैं?
उत्तर- रविन्द्रोत्तरकाल।

16. “लौट कर आऊंगा फिर” कविता में कवि किसके द्वारा घर से ली जमीन पर मुट्ठी-भर चावल फेंकने की बात करता है?
उत्तर- किसान द्वारा।

17. “लौट कर आऊंगा फिर” कविता में कवि किस नदी में उड़ते फटे पाल की नाव ले जाते बच्चे की बात करता है?
उत्तर- रूपसा नदी।

18. “लौट कर आऊंगा फिर” में उल्लू कहां बोलता है?
कपास के पेड़ पर

19. कवि जीवनानंद दास को काव्य संकलन पर किस वर्ष पुरस्कार दिया गया?
उत्तर- 1952

गोधूलि – II (गद्द खण्ड)

1. श्रम विभाजन और जाति प्रथा2. विष के दांत
3. भारत से हम क्या सीखें4. नाखून क्यों बढ़ते हैं
5. नागरी लिपि6. बहादुर
7. परंपरा का मूल्यांकन8. जित-जित मै निरखत हूं
9. आविन्यों10. मछली
11. नौबतखाने में इबादत12. शिक्षा और संस्कृति
Share this:

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top